Skip to content

taj ki sachai

April 9, 2013
  • Basic…taaj is an islamic architecture….any student of archeoligal architecure….can say this

  • P.N OAK HAVE EVEN FILED CASE TO SHOW THE WORLD THAT ITS SHIVA TEMPLE TEJO MAHALAYA NOT TAJ MAHAL RESEARCH OF STEPHEN KNAPP SHOWING PROOF THAT IT IS SHIVA TEMPLE http://www.stephen-knapp.com/was_the_taj_mahal_a_vedic_temple.htm

    Page: 3,470 like this
  •  send him this link

    Also tell him that Qutub-minar is 2500 years old Dhruv-Stambh.

  • Manish Kamat

    myne us chutiye ko link diya tha wo chutiya apne question pe ara hua hai

    ye keh chuka hoo usko

    ye bhaut bada harami hai

    sala sekular suwar hai

  • उसको बोलो की वो लिंक पढ़े. उसपर सभी उत्तर है.

    तुम भी अड़े रहो जाहिल बन जाओ. उसको बोलो, तुम अंग्रेज के गुलाम हो, तुम्हे संस्कृत भी नही आती फिर तुम्हे कैसे पता सही इतिहास.

    उसको पूछो – “ये जो तुम पढ़ते हो, वो ब्रिटिशो ने लिखा है. फिर वो इतिहास कैसे हो गया ?”

  • Manish Kamat

    aap on9 rhe aur mere next q ka wait kare

  • उसके सामने जाहिल बन जाओ. उसको पूछो – “यदि मुघल इतने प्रगत थे, तो केवल एक ही वास्तु क्यू बनी ?..इसके जैसी दूसरी क्यू नही ? ..और ताज-महल भारत में ही क्यू बना ? अरबो ने अपने प्रदेशो को क्यू बंजर छोड़ दिया ?.. और आज वह तकनीक कहा गई ? मुघल तो पर्शियन थे, तो फिर इरान में ताजमहल जैसी कोई चीज क्यू नही ? उनके पास तकनीक क्यू नही ? “
  • उसको पूछो – “मुघल पर्शियन थे, उनको तो हिंदी, उर्दू का एक शब्द भी नही आता था. तो पर्शियन भाषा बोलते थे. तो फिर अकबर ने बोलीवुड मूवी में हिंदी कैसी बोली ?.. उसको तो हिंदी आती ही नही थी. क्या तुम चूतिये हो ? ”

    उसको पूछो – “टीपू सुल्तान श्री राम को नही मानता था. वो भारत की संस्कृति ही नही मानता था. तो फिर वो भारतीय कैसे हुआ ?..वो तो अपना इस्लामी राज्य बचाने के लिए लडा था अंग्रेजो से. तो फिर वह भारतीय कैसे हुआ ? ”

  • उसको पूछो – “मोहम्मद तो सौदी-अरब में पैदा हुआ था. तो फिर इस्लाम भारतीय संस्कृति कैसे हुई ? पर्शिया से आये मुघल भारतीय कैसे हुए ? ”

  • send this video also to that secular eunuch
    http://www.youtube.com/watch?v=-AtbEAvpEbI&feature=share

    Taj Mahal or Tejo Mahalaya (aka Shiv Temple)? 1/2

    http://www.youtube.com

    Taj Mahal or Tejo Mahalaya (aka Shiv Temple)? You Decide
    • Neha Singh ताजमहल में भगवान शिव का पाँचवा रुप; अग्रेश्वर महादेव नागनाथेश्वर विराजित है!! ♥♥♥ ‘Taj mahal is a Hindu temple palace’..♥♥♥♥♥ विश्वकर्मा वास्तुशास्त्र नामक प्रसिद्ध ग्रंथ में; शिवलिंगों में ‘तेज-लिंग’ का वर्णन आता है!! ताजमहल का पुराना नाम तेज-लिंग ; प्रतिष्ठित होने के काठण तेजो महालय था!! *** Archealogical survey of india reports के page no. 216-217 में लिखा है***** Great square black balistic pillar which; with the base and capital of another pillar!! Now, in the grounds of Agra; It is well known, once stood in; the garden of Taj mahal!! संगमरमर की जाली में 108 कला चित्रित है; उसके ऊपर 108 कलश आरुढ़ है!! ♥♥♥♥♥ हिन्दू मंदिर परम्परा में 108 की संख्या को पवित्र माना जाता है♥♥♥♥♥♥♥♥♥ मकबरे को कब्रगाह ही समझना चाहिये महल नहीं…
    • Neha Singh १९५२ में जब एस.आर .राव पुरात्व अधिकारी थे तब उन्हें ताजमहल की एक दीवार में लम्बी चौड़ी दरार दिखाई दी . मरम्मत के दौरान आसपस की और ईंटे निकलवाने की जरुरत पड़ी , जब ईंटे निकाली गयी तो कक्ष में से अष्ट धातु की मूर्तियाँ दिखाई देने लगी . ….तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरु को ज्ञात करवाने पर निर्णय लिया गया की मूर्तियाँ जहाँ से निकली हैं वो जगह ही बंद करवा दी जाए ||
    • Neha Singh “68. स्पष्तः मूल रूप से शाहज़हां के द्वारा चुनवाये गये इन दरवाजों को कई बार खुलवाया और फिर से चुनवाया गया है। सन् 1934 में दिल्ली के एक निवासी ने चुनवाये हुये दरवाजे के ऊपर पड़ी एक दरार से झाँक कर देखा था। उसके भीतर एक वृहत कक्ष (huge hall) और वहाँ के दृश्य को‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ देख कर वह हक्का-बक्का रह गया तथा भयभीत सा हो गया। वहाँ बीचोबीच भगवान शिव का चित्र था जिसका सिर कटा हुआ था और उसके चारों ओर बहुत सारे मूर्तियों का जमावड़ा था। ऐसा भी हो सकता है कि वहाँ पर संस्कृत के शिलालेख भी हों। यह सुनिश्चित करने के लिये कि ताजमहल हिंदू चित्र, संस्कृत शिलालेख, धार्मिक लेख, सिक्के तथा अन्य उपयोगी वस्तुओं जैसे कौन कौन से साक्ष्य छुपे हुये हैं उसके के सातों मंजिलों को खोल कर उसकी साफ सफाई करने की नितांत आवश्यकता है।”
    • Neha Singh “69. अध्ययन से पता चलता है कि इन बंद कमरों के साथ ही साथ ताज के चौड़ी दीवारों के बीच में भी हिंदू चित्रों, मूर्तियों आदि छिपे हुये हैं। सन् 1959 से 1962 के अंतराल में श्री एस.आर. राव, जब वे आगरा पुरातत्व विभाग के सुपरिन्टेन्डेंट हुआ करते थे, का ध्यान ताजमहल के मध्यवर्तीय अष्टकोणीय कक्ष के दीवार में एक चौड़ी दरार पर गया। उस दरार का पूरी तरह से अध्ययन करने के लिये जब दीवार की एक परत उखाड़ी गई तो संगमरमर की दो या तीन प्रतिमाएँ वहाँ से निकल कर गिर पड़ीं। इस बात को खामोशी के साथ छुपा दिया गया और प्रतिमाओं को फिर से वहीं दफ़न कर दिया गया जहाँ शाहज़हां के आदेश से पहले दफ़न की गई थीं। इस बात की पुष्टि अनेक अन्य स्रोतों से हो चुकी है। जिन दिनों मैंने ताज के पूर्ववर्ती काल के विषय में खोजकार्य आरंभ किया उन्हीं दिनों मुझे इस बात की जानकारी मिली थी जो कि अब तक एक भूला बिसरा रहस्य बन कर रह गया है। ताज के मंदिर होने के प्रमाण में इससे अच्छा साक्ष्य और क्या हो सकता है? उन देव प्रतिमाओं को जो शाहज़हां के द्वारा ताज को हथियाये जाने से पहले उसमें प्रतिष्ठित थे ताज की दीवारें और चुनवाये हुये कमरे आज भी छुपाये हुये हैं। “
Advertisements

From → Uncategorized

Leave a Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: